संक्षिप्त विवरण

राजस्व विभाग के अंतर्गत भू-अभिलेख एवं बंदोबस्त विभाग का मुख्य दायित्व भू-अभिलेखों (नक्शा एवं अभिलेख) का निर्माण एवं इनका नियमित संधारण करना है।

भू-अभिलेखों को लोक सूचना संपदा (Public info-capital) के रूप में व्यवह्त करने के उद्देश्य से पटवारी अभिलेख (खसरा एवं बी-1) को कम्प्यूटरीकृत कर इंटरनेट (www.mponline.gov.in)  पर उपलब्ध करवाया गया है। इसी कड़ी में गांवों के नक्शों का डिजीटाइजेशन कार्य कराया जा रहा है, जिससे निकट भविष्य में खसरे के नक्शे भी नेट पर देखे जा सकेंगे।

कम्प्यूटर प्रणाली के माध्यम से भू-अभिलेखों (खसरा एवं नक्शा) को ओनलाइन किया जाकर इनके modification एवं updation की कार्यवाही कर अद्यतन अभिलेख (खसरा एवं नक्शा) वेब पर आम जनता को उपलब्ध कराना, राजस्व न्यायालयों को ओनलाइन किया जाना तथा भू-अभिलेख एवं पंजीयन विभाग की संबद्धता स्थापित कर भूमि को संसाधन की तरह प्रयुक्त करना विभाग का मुख्य उद्देश्य है। इससे एक ओर जहां भूमि संबंधी समस्त अभिलेखों में पारदर्शिता आएगी वहीं दूसरी ओर भूमि संबंधी विवादों में कमी आएगी तथा समस्त भू-अभिलेख आम जनता को सुगमतापूर्वक उपलब्ध हो सकेंगे।